Fajr ki Namaz Rakat | Fajr Ki Namaz Ka Tarika In Hindi | Best No1 Jankari On Fajr Namaz

आज की लेख  में हम Fajr ki Namaz Rakat के बारे में जानेंगे Fajr Ki Namaz Ka Tarika In Hindi फज़र  की नमाज को किस तरह से अदा की जाती है फज़र  की नमाज कब अदा की जाती है फज़र  की नमाज में कितनी रकात हैं आज के इस लेख में हम पूरी तरीके से जानेंगे कि कैसे फज़र  की नमाज पढ़ी जाती है मुझे उम्मीद है आप सभी को यह लेख पसंद आएगी और इससे आपको हेल्प मिलेगा। Fajr ki Namaz Rakat,Fajr Ki Namaz Ka Tarika In Hindi 

 अगर आप भी फज़र  की नमाज का तरीका के बारे में सर्च कर रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हैं आपको इस लेख में फज़र  की नमाज के बारे में पूरा जानकारी मिलेगा और आप अच्छे से समझ पाएंगे और आप फज़र  की नमाज को सही तरीके से पढ़ पाएंगे।

अल्लाह ताला ने हम पर पांच नमाजे फ़र्ज़ की  है आज के इस लेख में हम फज़र  की नमाज के बारे में जानेंगे फज़र  की नमाज पांचों नमाज़ में से ये पहले नंबर की फ़र्ज़ नमाज़ है फज़र  की नमाज में कुल 4 रकात है चलिए फज़र  की नमाज का तरीका के बारे में अच्छी तरीके से जानते हैं।Fajr ki Namaz Rakat

Fajr ki Namaz Rakat | Fajr Ki Namaz Ka Tarika In Hindi |

Fajr ki Namaz Rakat | फजर की नमाज़ की रकात :

फज़र  की नमाज में कुल 4 रकात है आइये अब हम जानते हैं फज़र की नमाज में कुल कितनी रकात  हैं और कौन सी रकाते पहले अदा की जाती है फज़र की नमाज में कुल 4 रकात है सबसे पहले दो रकात सुन्नते मुअक्किदा है फिर इसके बाद दो रकात फर्ज नमाज़ है।

  • 2 रकात सुन्नत मुअक्किदा।
  • 2 रकात फर्ज नमाज़।

Fajr ki Namaz Rakat Wise | फजर की नमाज़ की नियत कैसे करें :

फज़र  की नमाज की नियत आइये जानते हैं हम कैसे करेंगे अगर हम सुन्नत नमाज़ पढ़ रहे हैं तो कैसे किया जाएगा और फर्ज नमाज पढ़ रहे हैं तो उस वक्त कैसे किया जाएगा।

  • 2 रकात सुन्नत की नियत।

नियत करता हूं मैं 2 रकात सुन्नत नमाज फज़र  की वास्ते अल्लाह ताआला के मुंह मेरा काबा शरीफ के तरफ अल्लाहू अकबर।

  • फज़र  की 2 रकात फर्ज नमाज की नियत।

नियत की मैंने 2 रकआत फर्ज नमाज फज़र  की वास्ते अल्लाह तआला के मुंह मेरा कआबा शरीफ की तरफ अल्लाहु अकबर।

Note : ध्यान रहे आप इमाम के पीछे नमाज पढ़ रहे हैं तो आपको नीचे दिए गए इस तरह से 4 रकात फर्ज नमाज़ की नियत करनी है।

नियत करता हूं मैं 2 रकात फ़र्ज़ नमाज फज़र  की वास्ते अल्लाह ताआला के पीछे इस इमाम के मुंह मेरा काबा शरीफ के तरफ अल्लाहू अकबर।

Read More : 

Namaz Ki Hadees In Hindi | नमाज़ की हदीस हिंदी में : 

हम नबी करीम (सल्ल०) के साथ नमाज़ पढ़ते थे। फिर सख़्त गर्मी की वजह से कोई-कोई हममें से अपने कपड़े का किनारा सजदे की जगह रख लेता। Sahih Bukari Hadess In Hindi No 385

क्या नबी करीम (सल्ल०) अपनी जूतियाँ पहन कर नमाज़ पढ़ते थे? तो उन्होंने फ़रमाया कि हाँ! Sahih Bukari Hadess In Hindi No 386

मैंने जरीर-बिन-अब्दुल्लाह (रज़ि०) को देखा  उन्होंने पेशाब किया, फिर वुज़ू किया और अपने मोज़ों पर मसह किया। फिर खड़े हुए और (मौज़ों समेत) नमाज़ पढ़ी। आपसे जब उसके मुताल्लिक़ पूछा गया  तो फ़रमाया कि मैंने नबी करीम (सल्ल०) को ऐसा ही करते देखा है। इब्राहीम नख़ई ने कहा कि ये हदीस लोगों की नज़र में बहुत पसन्दीदा थी क्योंकि जरीर (रज़ि०) आख़िर में इस्लाम लाए थे। Sahih Bukari Hadess In Hindi No 387

मैंने नबी करीम (सल्ल०) को वुज़ू कराया। आप (सल्ल०) ने अपने मोज़ों पर मसह किया और नमाज़ पढ़ी। Sahih Bukari Hadess In Hindi No 388

उन्होंने एक शख़्स को देखा जो रुकूअ और सजदा पूरी तरह नहीं करता था। जब उसने अपनी नमाज़ पूरी कर ली तो हुज़ैफ़ा (रज़ि०) ने फ़रमाया कि तुमने नमाज़ ही नहीं पढ़ी। अबू-वायल रावी ने कहा,  मैं ख़याल करता हूँ कि हुज़ैफ़ा (रज़ि०) ने ये भी फ़रमाया कि अगर तू ऐसी ही नमाज़ पर मर जाता तो नबी करीम (सल्ल०) की सुन्नत पर नहीं मरता। Sahih Bukari Hadess In Hindi No 389

नबी करीम (सल्ल०) जब नमाज़ पढ़ते तो अपने बाज़ुओं के बीच इस क़द्र कुशादगी कर देते कि दोनों बग़लों की सफ़ेदी ज़ाहिर होने लगती थी और लैस ने इस तरह कहा कि मुझसे जाफ़र-बिन-रबीआ ने इसी तरह हदीस बयान की। 390

रसूलुल्लाह (सल्ल०) ने फ़रमाया,  जिसने हमारी तरह नमाज़ पढ़ी और हमारी तरह क़िबले की तरफ़ मुँह किया और हमारे ज़बीहा को खाया तो वो मुसलमान है जिसके लिये अल्लाह और उसके रसूल की पनाह है। इसलिये तुम अल्लाह के साथ उसकी दी हुई पनाह में ख़ियानत न करो। Sahih Bukari Hadess In Hindi No 391

Leave a Comment